अनुभवी अभिनेता ओम पुरी के असमय निधन ने फिल्म बिरादरी और उनके प्रशंसकों को भयंकर सदमे में छोड़ गया, लेकिन उनकी आखिरी फिल्म ‘कबाड़ी’ में उनके अभिनय कौशल को एक बार और देखने का मौका मिलने वाला है। यह फिल्म ओम पुरी की पहली पत्नी सीमा कपूर द्वारा लिखित और निर्देशित है, जिसमें ओम पुरी के साथ सारिका, विनय पाठक, राजवीर सिंह,कशिश वोरा और बृजेन्द्र कला जैसे कलाकार नजर आएंगे। पिछले दिनों इस फिल्म के कलाकार दिल्ली के पीवीआर प्लाजा में इसका प्रमोशन करने के लिए जुटे थे।
प्रेस कॉन्फ्रेंस में मौजूद फिल्म के निर्माता ओम छांगानी ने मीडिया के साथ बातचीत में फिल्म के बारे में कहा, ‘ओम पुरी जी नेअपने करियर में अभिनय की एक ऐसी रेखा खींच दी है, जिसे पार करना किसी के भी वश की बात नहीं है। इस फिल्म में भी उनका एक मजबूत किरदार है। हालांकि, हमारी इस फिल्म में कोई तारा नहीं है, लेकिन हमारे पास अभिनय के सितारे जरूर हैं।फिल्म के गाने बहुत ही अच्छे हैं, जिनमें क्लासिक और सूफी का टच भी है।’ उन्होंने कहा, ‘’मिस्टर कबाड़ी’ एक व्यंग्यात्मक कॉमेडी फिल्म है। मेरा मानना है कि हास्य तब उभरता है, जब अचेतन मन में छिपे विचार व भावनाएं सचेत रूप में जाहिर की जाती हैं। इस फिल्म में हमने दिखाया है कि जब एक कबाड़ी वाला धनवान बन जाता है, तो वह कैसे अपने धन-वैभव का शान दिखाता है। अन्य करोड़पति की तरह बनने के लिए वह उनके जैसे ही कपड़े पहनता है, अलग उच्चारण शैली अपनाता है और अपना कारोबार बढ़ाता है।’ सह-निर्माता के तौर पर अनूप जलोटा ने कहा, ‘एक निर्माता के रूप में इस फिल्म से जुड़ना मेरे लिए एक यादगार अनुभव है। अन्य निर्माता ने फिल्म निर्माण में अपना सर्वश्रेष्ठ दिया है और मैँने भी उन्हीं का अपुसरण करने की कोशिश की है।’ जबकि, बृजेंद्र काला ने फिल्म में अपने चरित्र के बारे में बताया, ‘फिल्म में मेरा किरदार पंजाबी परिवार से संबंधित है। इसकी कहानी दो अलग-अलग विपरीत समाजों के बारे में है। मैं इस फिल्म का हिस्सा बनकर बहुत खुश हूं।’


बता दें कि ‘कबाड़ी’ की कहानी का केंद्र उत्तर प्रदेश का लखनऊ शहर है। यह फिल्म एक ऐसे ‘कबाड़ीवाला’ यानी एक स्क्रैप डीलर केइर्दगिर्द घूमती है, जो रातोंरात अमीर हो जाता है और उसकी संपत्ति करोड़ों की हो जाती है। फिल्म यह भी दिखाती है कि अमीर बनने के बाद वह किस प्रकार अपनी अलमारियां बदलता है, अमीरों की तरह अलग उच्चारण की कोशिश करता है और अपने व्यवसाय का विस्तार करता है।