नई दिल्ली। वैश्विक महामारी कोरोना वायरस से मुकाबले के लिए हर समर्थ व्यक्ति पीएम केयर्स फंड से लेकर राज्यों में मुख्यमंत्री राहत कोष में अपने सामर्थ्य के मुताबिक आर्थिक सहयोग कर रहा है। देश के लोग ही नहीं बल्कि विदेशों में रहने वाले भारतवंशियों ने भी संकट की इस घड़ी में अपनी मातृभूमि का कर्ज अदा करने के लिए मदद का हाथ आगे बढ़ाया है।

कोरोना के खिलाफ शुरू इस लड़ाई में आम से लेकर खास तक मिलकर एकजुटता के साथ अपने अपने हिस्से की लड़ाई लड़ रहे हैं। मानवता पर आये इस संकट को टालने के लिए हर व्यक्ति पूरी ईमानदारी से अपने हिस्से की लड़ाई लड़ रहा है। जानलेवा बन चुके कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ने के लिए सामाजिक संस्थाएं आर्थिक सहयोग के साथ देवदूत बनकर सामने आई है।

अपने सामाजिक व मानवीय उत्तरदायित्वों को निभाने के लिए मुश्‍क‍िल की इस घड़ी में भारत यात्रा केंद्र डेडियापाड़ा गुजरात ने भी आगे बढ़कर मदद का हाथ बढ़ाया है। भारत के 9वें प्रधानमंत्री स्व. चंद्रशेखर जी के राजनीतिक सलाहकार व भारत यात्रा केंद्र डेडियापाड़ा, गुजरात के संरक्षक एच एन शर्मा ने चेक के माध्यम से प्रधानमंत्री केयर्स फंड में 3 लाख रुपये का आर्थिक सहयोग किया। कोरोना के खिलाफ जारी इस महायज्ञ में भारत यात्रा केंद्र डेडियापाड़ा के संचालक के मोहन आर्य ने भी अपनी आहुति देते हुए गुजरात के मुख्यमंत्री आपदा राहत कोष में जमा करने के लिए 51 हजार रुपये का चेक सौंपा। इस संबंध में संस्था के संचालक के मोहन आर्य व ट्रेजरर सागर आर्य ने कहा कि पूरे भारत के साथ गुजरात भी कोरोना की गिरफ्त में है। इससे निबटने मे सहयोग देने के लिए ही यह आर्थिक मदद की गई है। उल्लेखनीय है कि लॉकडाउन की वजह से बहुत से परिवारों के सामने रोजी रोटी का संकट पैदा हो गया था। इस दौरान कोई भूखा न सोये इसके लिए के मोहन आर्य व सागर आर्य ने लगातार ऐसे परिवारों के बीच राशन किट का वितरण कराया।