कोलकाता। मुंबई की चित्रकार राखी बैद की एकल कला प्रदर्शनी भारतीय सांस्कृतिक संबंध परिषद (आईसीसीआर) की अवनिंद्रनाथ टैगोर गैलरी में सम्पन्न हुई। प्रदर्शनी का संयोजन सिटी आर्ट फैक्ट्री की ओर से किया गया, जिसके क्यूरेटर शांतनु रॉय हैं।

प्रदर्शनी का उद्घाटन करने के बाद मुख्य अतिथि अंतरराष्ट्रीय ख्याति के फ़िल्मकार डॉ.सुदीप रंजन सरकार ने कहा कि ज़िन्दगी की आपाधापी व तनावपूर्ण कार्यों के बीच इन रंगों का सान्निध्य सुकून देता है और हमें नये सिरे से तरोताज़ा करता है। विशेष अतिथि व प्रख्यात वरिष्ठ मूर्तिकार शंकर घोष ने कहा कि राखी बैद के कुशल कलाकार हैं और वे जानती हैं कि रंगों के ज़रिये कैसे अपनी बात कही जाये।

लेखक-चित्रकार डॉ.हृदय नारायण सिंह ने कहा कि श्रीकृष्ण का जीवन सदैव से कलाकारों को आकृष्ट करता रहा है, उनके जीवन में जितने शेड्स हैं वे किसी अन्य पौराणिक पात्र में नहीं। जलरंगों के विशेष तौर पर चर्चित मुंबई के चित्रकार समीर मंडल ने राखी बैद को एक महत्वपूर्ण चित्रकार बताया। प्रदर्शनी का नाम कृष्णांश था जिसमें श्रीकृष्ण व राधा से जुड़े विभिन्न प्रसंगों को चित्रकार राखी बैद ने खूबसूरती से उकेरा है और रंगों से उन्हें और अर्थवान बनाया है। यह राखी बैद की ग्यारहवीं एकल कला प्रदर्शनी थी। उन्होंने साठ से अधिक सामूहिक कला प्रदर्शनी में हिस्सेदारी की है।