नई दिल्ली। डेढ़ वर्षो की अथक परिश्रम के पश्चात् “मुज़फ्फरनगर-दी बर्निंग लव” फ़िल्म अब 17 तारीख से प्रदर्शन के लिए तैयार है। फ़िल्म की पूरी टीम ने दिल्ली में मीडिया के साथ बातचीत करते हुए अपने विचार साझा किए।

फ़िल्म का निर्माण मोरना एंटरटेनमेंट प्राइवेट लिमिटेडके बैनर तले हुआ है,लेखक और निर्माता मनोज कुमार मांडी हैं,निर्देशक हरीश कुमार, संगीत मनोज नयन,राहुल भट्ट और फ़राज़ अहमद का है,छायांकन रवि कुमार सना का है और संपादन साजु चंद्रन का है।

फ़िल्म के निर्देशक हरीश कुमार ने बताया कि यह फ़िल्म 2013 को मुज़फ्फरनगर में घटित एक दुर्घटना पर आधारित है। यह हिंसक घटनाओ के बीच में दो दिलों के प्यार की भावनात्मक कहानी है, जो 2013 के दंगे पर आधारित हते हुए भी दर्शकों को एक महत्वपूर्ण संदेश देती है। फ़िल्म में जहाँ अतिआवश्यक है, वहीं थोड़ी मारधाड़ दिखाई गई है, वरना फ़िल्म में हिंसा को नही दर्शाया गया है।

 यह फिल्म दर्शको को सोचने पर मजबूर कर देगी। फिल्म के निर्माता मनोज कुमार मंडी स्वयं मुजफ्फरनगर के रहने वाले हैं और उस दंगे के वक़्त वहां मौजूद थे,लिहाजा उन्होंने अपनी आँखों से काफी कुछ मंज़र देखा है, जो उन्हें इस फिल्म की कहानी लिखने में मददगार हुई। फिल्म अब सेंसर हो चुकी है। फ़िल्म में कलाकार के रुप में देव शर्मा, ऐश्वर्य दिवान, एकांश भारद्वाज, अनिल जॉर्ज, मुर्स्लिम कुरेशी, संदीप बोस और रवि खन्ना हैं।