बद्रीनाथ वर्मा

नई दिल्ली। महज 17 साल की चारू दर्शना की उपलब्धियां किसी भी माता-पिता को  गौरव से भर देने के लिए काफी हैं। 12वीं में पढ़ने वाली चारू बड़ी तेजी के साथ शूटिंग (निशानेबाजी) में एक बड़ा नाम बनने की ओर अग्रसर हैं। उन्होंने अब तक एक गोल्ड मेडल, दो सिल्वर व एक ब्रोंज मैडल हासिल कर अन्य बच्चों के लिए प्रेरणास्त्रोत बननने के साथ ही एक जबर्दस्त एक्जाम्पल सेट किया है ।

 (चारू दर्शना की मम्मी राजश्री कटियार )

लगातार एक के बाद एक सफलता के नित नये सोपान तय करती जा रही चारू ने अभी इसी 29 अक्टूबर को एलकॉन इंटरनेशनल पब्लिक स्कूल, मयूर विहार, दिल्ली में आयोजित 63वें स्कूल नेशनल गेम्स शूटिंग ट्रायल चैंपियनशिप में प्रथम स्थान हासिल किया है। इस चैंपियनशिप में दिल्ली के सभी इलाकों के छात्रों ने भाग लिया था। चैंपियनशिप को जीतने के साथ ही चारू एक दिसंबर को पुणे में आयोजित होने वाली स्कूल नेशनल गेम शूटिंग चैंपियनशिप के लिए क्वालिफाई कर चुकी हैं।

(चारू दर्शना के पापा अतुल कटियार)

संस्कृति स्कूल चाणक्यपुरी की छात्रा चारू दर्शना ने इसके पूर्व  33वीं दिल्ली स्टेट शूटिंग चैंपियनशिप 2017 में एक गोल्ड, दो सिल्वर व एक कांस्य पदक जीत कर शूटिंग के क्षेत्र में एक नायाब उदाहरण पेश किया है। यही नहीं, 16 से 26 सितंबर तक वर्ली शूटिंग रेंज मुंबई में आयोजित नेशनल लेवल शूटिंग चैंपियनशिप में भी चारू अपनी शूटिंग का जलवा बरकरार रखते हुए टॉप टेन में जगह बना चुकी हैं। बता दें कि चारू न केवल शूटिंग में कामयाबी के झंडे गाड़ रही हैं बल्कि वे पढ़ाई में भी तेज हैं।  

सिविल सर्विस के जरिए देश सेवा का जज्बा रखने वाली चारू दर्शना की इस सफलता में उनकी मम्मी राजश्री कटियार व दिल्ली पुलिस स्पेशल ब्रांच में ज्वाइंट सीपी के रूप में पदस्थ पापा अतुल कटियार की प्रेरणा व योगदान को नकारा नहीं जा सकता। कटियार दंपति खुद भी रचनाधर्मी हैं। उन्होंने लीक से हटकर एक ऐसी अद्भुत पुस्तक लिखी है जो पठनीय होने के साथ ही संग्रहणीय भी है।