नई दिल्ली। राजधानी की 40 साल पुरानी लव-कुश रामलीला कमेटी की रामलीला के पांचवें दिन सोमवार को जहां लोगों ने लालकिला मैदान में सीता-हरण का मार्मिक दृश्य देखा, वहीं छठे दिन मंगलवार को लंका-दहन का भव्य मंचन किया गया। दर्शकों की भारी भीड़ के बीच जब हनुमान जी ने रावण की सोने की लंका को आग लगाई, तो दर्शक तालियों की गड़गड़ाहट के साथ उनका अभिवादन किया। इस मंचन को देखकर दर्शकों का रोमांच सातवें आसमान पर पहुंच गया। रामलीला में भाजपा नेता शाहनवाज हुसैन भी मौजूद थे। रामायण के इस अति महत्वपूर्ण हिस्से को जीवंत बनाने में रामलीला की टीम ने भी पूरी ऊर्जा झोंक दी थी। मंचन खास बात यह कि बॉलीवुड के सितारों- अंगद के रोल में मनोज तिवारी, लंकाधिपति रावण की भूमिका में मुकेश ऋषि, मेघनाद के किरदार में शाहबाज खान, मंदोदरी के रोल में श्वेता त्रिवेदी, हनुमान की भूमिका में देवरथ चौधरी, राम की भूमिका में विशाल कंवल, सीता की भूमिका में शुभि शर्मा एवं लक्ष्मण की भूमिका में अरुण मेंडोला ने रामायण के अहम किरदारों को जीवंत बनाने एवं दर्शकों की वाहवाही लूटने में कोई कसर नहीं छोड़ी।

मंगलवार को लंका-दहन के दृश्य के साथ ही शबरी के आश्रम में राम जी का आगमन, राम और सुग्रीव के बीच मैत्रीपूर्ण संवाद, बाली-सुग्रीव युद्ध एवं बाली वध के दृश्य का भी मंचन किया गया। इसके साथ ही सीता जी से हनुमान की मुलाकात एवं सीता जी को हनुमान की ओर से प्रभु श्रीराम की अंगूठी भेंट करने के दृश्य का भी मंचन किया गया।

इस मौके पर लव-कुश रामलीला कमेटी के अध्यक्ष अशोक अग्रवाल ने बताया कि इस बार की रामलीला में जहां लाइट-साउंड एवं पोयााकों को भव्य रूप प्रदान किया गया है, वहीं लीला मंचन के दौरान दर्शकों एवं कलाकारों की सुरक्षा के भी पुख्ता प्रबंध किए गए हैं। यह सारी व्यवस्थाएं दशहरा के अंतिम दिन यानी पहली अक्टूबर तक जारी रहेगी।